motivational blog, inspirational, goal setting, life coch, etc

Tuesday, 5 December 2017

आपको इतिहास रटना नहीं है , रचना है

आपको इतिहास रटना नहीं है , रचना है 

इस दुनिया में दो तरह के लोग हैं।  एक वो जो पूरी जिंदगी इतिहास रटते हैं और दूसरे वे जो पूरी जिंदगी इतिहास रचने में बिताते हैं। इतिहास रचना है तो  जिद्दी बनना पड़ेगा । चाहे कुछ भी हो।

ऐसी क्या चीज़ होती है  लोगों को इतिहास बनाने पर मजबूर कर देती है ? ऐसी कौन से शक्ति है जो उनको दूसरों से अलग खड़ा करती है। जिद्दी इंसान ही इतिहास रचता है। इंसान  अपनी जिद्द को बनाये रखना चाहिए ,क्योंकि इतिहास रचियताओं  कभी न कभी गुस्सा आया था जो उनकी जिद में बदल गया , उनका संकल्प बन गया। हम यह सोच अपना लें कि मुझे कुछ खास चाहिए ही चाहिए तो उस चीज़ को पाने के लिए आप आधी जंग तो पहले ही जीत जाते हैं। सचिन तेंदुलकर का करियर उनकी कोहनी की चोट के बाद खात्मे की कगार पर था पर उन्होंने जिद पकड़ ली कि उनको ऐसे रिटायर नहीं होना है।  आज उनके नाम 100 अंतराष्ट्रीय शतकों का रिकॉर्ड है।
आपको इतिहास रटना नहीं है , रचना है

आज़ादी ही मोटिवेशन है --

एंटरप्रेन्योर को क्या चीज़ मोटिवेट करती है ? कई लोग सोचगें कि पैसा मोटिवेट करता है। पर यदि आप गौर से देखें तो पाएंगे कि  पैसा तो सिर्फ मेहनत का आउटकम होता है।  अगर लगन से मेहनत करें तो पैसा तो अपने आप ही आएगा।  आजादी से काम करना , अपने विचारों पर काम करना , अपने तरीके से चीज़ों को करना।जैसे स्टीव जॉब्स ने किया था। ( हमारे ब्लॉग पर स्टीव जॉब्स  की बायोग्राफी देख सकते हैं )  ये ही सपना होता है एक एंटरप्रेन्योर का। अगर इतिहास रचना है तो जिद्दी होना ही पड़ेगा।

क्रिएटिव सोच से आगे जाएं --

सफलता के रास्ते पर काफी सारी रुकावटें आएंगी और उनको सिर्फ क्रिएटिव थिंकिंग के जरिये ही सुलझाया जा सके , ऐसा बहुत कम ही देखने को मिलेगा।  अपने कई बार देखा होगा कि जीवन में कुछ बड़ा करने के लिए कुछ लोग कोई नायाब तरीका नहीं चुनते , बल्कि अपनी प्रतिभा का उपयोग करते हुए अथक मेहनत करके कामयाबी हासिल करते हैं।

सफलता ही सर्वश्रेष्ठ प्रतिशोध है --

एक बार रतन टाटा अपनी पैसेंजर व्हीकल डिवीज़न जो कि  नुकसान में चल रही थी , उसे बेचने फोर्ड कम्पनी के संचालक बिल फोर्ड के पास गए तो बिल ने उनका अपमान किया। बिल ने कहा कि मैंने यह खरीदी तो तुम पर अहसान करूंगा और अगर धंधा करना आता ही नहीं तो शुरू ही क्यों किया।  यह बात रतन टाटा को चुभ गई और उन्होंने जिद पकड़ ली कि मैं पैसेंजर व्हीकल को फायदे में लेकर ही आऊंगा और वे मेहनत करने लगे।  इसी दौरान बिल फोर्ड की कम्पनी नुकसान  में आने लगी और उनकी ब्रांड जेगुआर कार को बिल फोर्ड को रतन टाटा ने खरीदने का प्रस्ताव भेजा उनकी बिजनेस डील के बाद फोर्ड कहकर गए कि यह ब्रांड खरीदकर आप हम पर अहसान कर रहे हैं।

आप रच सकते हैं इतिहास --

इंसान को अपनी जिद को पहचानना पड़ेगा , क्योंकि इतिहास रचने वाले प्रतिशत के हिसाब से नहीं मिलेंगे उनकी तो गिनती की जा सकती है , जैसे - महात्मा गाँधी , अब्राहम लिंकन , सचिन तेंदुलकर। कुछ लोग बिल गेट्स के लिए कहते हैं कि वह तो ड्रॉपआउट था पर उनको जानने वाले से पूछें तो पता चलता है कि उनसे  ज्यादा पढ़ने वाला आदमी  कोई हो ही नहीं सकता।  बिल गेट्स  रोज़ 500 पेज़ पढ़ते हैं। सत्या नांदेला की  बात करें तो वे तो लैब में ही सो जाते थे जिससे कि वह समय बचाकर ज्यादा सीख सकें।  अगर आपका लक्ष्य साफ़ है तो पूरी ताकत से काम करने से आप इतिहास रचने के करीब पहुंच सकते हैं।

हे दोस्तों जिद्द  ऐसी चीज़ है जो आप चाहते हो उसे पाने की जिद अपने अंदर आ गई तो आप कुछ भी हासिल कर सकते हैं।  और वैसे ही अगर दुनिया में कुछ हटकर करना हैं तब भी आपको जिद्दी बनना ही पड़ेगा तभी आप कुछ बड़ी अचीवमेंट कर सकते हैं। स्टीव जॉब्स जिद्दी था इसलिए एक बार जब उनकी खुद की कंपनी से उनको निकाल दिया तो वही उनकी जिद्दीपन के वजह से फिर से उस कम्पनी को खरीद लिया। कुछ करना है तो दोस्तों पहले जिद्दी बनों। 

अन्य पॉपुलर पोस्ट -

स्टीव जॉब्स की जीवनी ! Steve Jobs Biography in Hindi





आप अपना अनुभव हमसे साझा  नीचे  कमेंट्स करके कर सकते हैं। अगर कोई कमी रह गई हो तो बेझिझक बता सकते हैं ताकि हमारे भविष्य के पोस्ट बेहतर हो।  आप किसी के बारे में जानना चाहते हैं तो कमेंट्स  में जरूर बताइये कोशिश करेंगे आप तक पहुचाने की।  आखिर में , अगर आपको ये पोस्ट लाभदायक लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करना ना भूलें। धन्यवाद। जय हिन्द।  .......

0 Please Share a Your Opinion.:

Post a Comment

Connect us on social media

Ad

Popular Posts

Translate

Recent Posts

book