motivational blog, inspirational, goal setting, life coch, etc

Sunday, 31 December 2017

जिंदगी संवारने का मौका देता है नया साल

जिंदगी संवारने का मौका देता है नया साल

इस साल नव वर्ष पर कुछ नया करने की ठानें और नव निर्माण करें।  नए साल को कुछ  तरह से जिए कि हर दिन जिंदादिली की मिसाल बन जाये।

यह तो तय है कि यह साल हम सबकी जिंदगी को नए अनुभव देकर जा रहा है।  फर्क सिर्फ इतना है कि इन सब अनुभवों को देखने का हमारा नजरिया कैसा है।  यह नजरिया ही तय करेगा कि आने वाला साल कैसा होगा , क्योंकि यह सिर्फ हम तय कर सकते हैं कि आने वाले साल को बाकी बीते हुए सालों की तरह बिताया जाये या फिर ऐसे कि पूरी जिंदगी इसमें समा जाये .......



जिंदगी संवारने का मौका देता है नया साल


 क्या आप चाहते हैं ? हमें पूरा विश्वास है कि दूसरा वाला विकल्प चुनेगें। हम सब नव वर्ष को एक उत्सव की तरह मनाते हैं।  पार्टी , मौज - मस्ती , घूमना इन सबसे हटकर भी कुछ ऐसा है, जो हमारे लिए बहुत महत्वपूर्ण है।  नव वर्ष अपनी जिंदगी की कहानी को बदलने का श्रेष्ठ समय है। यह याद दिलाता है कि गत वर्ष हमारी ज़िंदगी हमारी आशा के अनुसार नहीं रही तो यह मौका है कि  हम इस कहानी में अपने अनुसार बदलाव करें।  तो फिर तैयार हो जाइये ......... अपनी ज़िंदगी को रोचक बनाने के लिए --


मकसद हो इस साल -- उम्र को हराना है तो शौक पालना सीखा लें।  यह वाक्य बहुत ही अर्थपूर्ण है।  जी हाँ।  यदि हमें अपने आपको उत्साही , ऊर्जावान और प्रेरित रखना है तो कुछ लक्ष्य बनाने ही होंगे।  हमें तय करना है कि इस साल में इन पांच मुख्य लक्ष्यों को प्राप्त करेंगे और हाँ इन्हें लिखना ना भूलें।  याद रखें कि यह लक्ष्य हमारी जिंदगी के उन क्षेत्रों से होंगे , जहाँ हमें सबसे ज्यादा ध्यान देने की जरूरत है - स्वास्थ्य , करियर , व्यापार , रिश्ते आदि।

अपने डर को चुनौती दें --अपने तीन बड़े डर जो कि  हमें अब तक रोकते आए हैं उनको लिखना है और एक के बाद एक उन पर काम करना है।  परिणाम चाहे जो भी हो , रूकना नहीं है।  अब चाहे वह डर कुछ सीखने का हो , नया काम करने का हो , पब्लिक स्पीकिंग का हो या कुछ और इस साल तो उस पर काम करना ही है। 

जिम्मेदारी लें --  इस बार नव वर्ष पर बहुत सारे वायदे करने की अपेक्षा पांच जिम्मेदारी लें। मैं अपनी जिंदगी में आने वाले साल में ये पांच जिम्मेदारी पूर्ण करूंगा ताकि मैं अपने जीवन को श्रेष्ठता की ओर ले जा सकूं। ये जिम्मेदारियां व्यवहार में या अपने व्यापार में हो सकती है।

स्वयं को महसूस करें --  यह एक ऐसा अभ्यास है जो हमें आत्मविश्वास देगा और स्थिर रहना सिखाएगा।  इस साल अपने साथ समय बिताना शुरू करें , सुबह जल्दी उठकर कुछ समय मौन रहना , अपने विचारों को लिखना , ध्यान लगाना और सुबह भ्रमण पर जाना , व्यापार करना , किसी शाम अकेले घूमने निकल जाना और कभी - कभी अकेले ही यात्रा पर निकल जाना।  इन सबसे आप अपने आप को और जान सकेंगे और जितना आप खुद को जानते जायेंगे , उतना ही आप हर्ष और उत्साह से भरते जायेंगे। 

अपना नव निर्माण करें -- बीता हुआ साल सिर्फ अनुभवों का जोड़ और हमारे चुनावों का परिणाम था , अंतिम सत्य नहीं। आने वाले साल में हम किस तरह के अनुभवों को जोड़ना चाहते हैं , यह चुनाव करने का हमारे पास समय और विकल्प है।  यह हमारे चुनावों की ही ताकत है कि हम अपने आपको जब चाहें तब बदल सकते हैं।  बदलाव बाद में पूर्ण होता है , लेकिन प्रारंभ कुछ ही सेकंड में हो जाता हैं।  इससे आगे एक के बाद एक नए अनुभव जुड़कर हमें पूर्ण रूप से बदल देते हैं।



उत्साह का स्रोत बनें -- एक शोध के अनुसार यदि हम दिन में चार सकारात्मक बातें और एक नकारात्मक बात करते हैं तो हम ख़ुशी वाली अवस्था में हैं।  लेकिन आधुनिक समय में इसकी बहुत कमी है।  इसलिए लोगों की प्रशंसा करने के मौके न छोड़ें।  इसकी शुरुआत स्वयं और अपने परिवार से करें। लोगों से बात करते वक़्त उत्साह और मुस्कान के साथ बात करें और इसे अपनी आदत बनाये। साल के अंत में आप देखेंगे कि बहुत सारे लोग आपके दीवाने हैं।

अपनी ख़ास पहचान बनाए --लोगों को यह तय मत करने दो कि आप क्या कर सकते हैं। यह हक़ केवल आपका है।  अपनी विशेषता को पहचानें , अपनी उन बातों पर गौर करें , जो आप सबसे अलग करते हैं या बहुत अच्छे से करते हैं।  अपनी उन दक्षताओं पर ध्यान दें , जो आप अच्छे से अभ्यास कर सकते हैं , अपने उस शौक पर काम करें , जो आपको आनंद देता हो।  निश्चित रूप से यह साल आपको भीड़ से अलग कर देगा और ख़ास बनाएगा।

अनुभवों से सीखें --  बीता  हुआ साल हमारी जिंदगी में कुछ अनुभव जोड़कर जा रहा है।  यदि इनसे सीख लिया जाये तो ये अनुभव हमारे श्रेष्ठ टीचर हो सकते हैं और ऐसा करने के लिए हमें स्वयं से दो सवाल करने हैं।  पहला - इस साल से मैंने क्या पांच महत्वपूर्ण सीखें ली हैं ? दूसरा - इन सीखों को आने वाले साल में कैसे उपयोग में लाना है ? इन दोनों सवालों के जवाब हमें लिखने हैं ताकि हमारे आने वाले साल में इन महत्वपूर्ण बातों का हम सही से ध्यान रख पाएं।

ज्ञान का भंवरा न बनें -- भंवरा सिर्फ फूलों से मधु का पान करता है देता कुछ नहीं है।  वहीँ , मधुमक्खी उसी मधु को दूसरों के लिए छोड़ देती है।  कुछ नया पढ़ें , कुछ पुराना पढ़ें , पर इस साल कुछ इस तरह पढ़ना है कि यह पढ़ा - लिखा काम आये......खुद सीखें और दूसरों को भी सिखाएं।  याद रखें कि हमें अपने ज्ञान और अनुभव को दूसरे लोगों के साथ शेयर करना है।

पॉपुलर पोस्ट --

खुद पर करेंगे भरोसा , तभी मिलेगी सफलता

लक्ष्य के लिए उत्साह जरूरी है


आप अपना अनुभव हमसे साझा  नीचे  कमेंट्स करके कर सकते हैं। अगर कोई कमी रह गई हो तो बेझिझक बता सकते हैं ताकि हमारे भविष्य के पोस्ट बेहतर हो।  आप किसी के बारे में जानना चाहते हैं तो कमेंट्स  में जरूर बताइये कोशिश करेंगे आप तक पहुचाने की।  आखिर में , अगर आपको ये पोस्ट लाभदायक लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करना ना भूलें। धन्यवाद। जय हिन्द।  ......

0 Please Share a Your Opinion.:

Post a Comment

Connect us on social media

Ad

Popular Posts

Translate

Recent Posts

book