motivational blog, inspirational, goal setting, life coch, etc

Wednesday, 25 October 2017

गहन अंधकार से फिर भी लड़ता रहा।

1 :-      अपनी रफ्तार से वक़्त चलता रहा ,
                         कोई रोटा रहा कोई हंसता रहा।
           ये अलग बात है कुछ न हासिल हुआ ,
                          ज़िंदगी एक किताब है पढ़ता रहा।
            लोग मेरे करीब आ रहे थे मगर ,
                           मैं था सहमा हुआ दूर हटता रहा।
             ज़िंदगी का सफर बहुत ही कठिन था ,
                            मेरी हिम्मत थी हंस - हंस के चलता रहा। 
              टिमटिमाता हुआ एक दिया था मगर ,
                           गहन अंधकार से फिर भी लड़ता रहा।। ..... 

2 :-        खुद को कर बुलंद इतना ,
                           कि हर तक़दीर से पहले।
                खुदा बन्दे से खुद पूछे
                            कि बता तेरी रज़ा क्या है। 

3 :-          पल - पल में रंग बदलती 
                                            है ज़िंदगी ,
                  ग़मों की आग में जलती 
                                             है  जिंदगी ,
                   ठोकरें लगे तो गम नहीं 
                                              करना ,
                    ठोकर खाकर ही संभालती 
                                               है ज़िंदगी। .....                                       


                                                                                  --: जय हिन्द :-- 
आप अपना अनुभव हमसे साझा  नीचे  कमेंट्स करके कर सकते हैं। अगर कोई कमी रह गई हो तो बेझिझक बता सकते हैं ताकि हमारे भविष्य के पोस्ट बेहतर हो।  आप किसी के बारे में जानना चाहते हैं तो कमेंट्स  में जरूर बताइये कोशिश करेंगे आप तक पहुचाने की।  आखिर में , अगर आपको ये पोस्ट लाभदायक लगा हो तो अपने दोस्तों के साथ इसे शेयर करना ना भूलें। धन्यवाद। जय हिन्द।  .......


0 Please Share a Your Opinion.:

Post a Comment

Connect us on social media

Ad

Popular Posts

Translate

Recent Posts

book